Jun 16, 2019

बिना इंटरनेट और स्मार्टफोन के भी कर सकते हैं पैसों का लेनदेन, ये है आसान तरीका

बिना इंटरनेट और स्मार्टफोन के भी कर सकते हैं पैसों का लेनदेन, ये है आसान तरीका


अगर आपके फोन में इंटरनेट नहीं है या आपके पास स्मार्टफोन नहीं है तब भी आप पैसे ट्रांसफर करने या पेमेंट करने के लिए BHIM का उपयोग कर सकते हैं।
बिना इंटरनेट और स्मार्टफोन के भी कर सकते हैं पैसों का लेनदेन, ये है आसान तरीका

भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM) यूपीआई पैसे ट्रांसफर करने, बिलों का भुगतान करने, ऑनलाइन शॉपिंग पेमेंट और बहुत से फाइनेंशियल ट्रांजैक्‍शंस करने का आसान तरीका है। बैंक अकाउंट, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और डेबिट कार्ड के जरिए कोई भी व्यक्ति BHIM का इस्तेमाल कर सकता है। इसके जरिए 24x7 यानी कभी भी पेमेंट की जा सकती है। सबसे खास बात यह है कि यह स्मार्टफोन के साथ सामान्‍य फीचर फोन में भी उपलब्ध है।

अगर आपके फोन में इंटरनेट नहीं है या आपके पास स्मार्टफोन नहीं है तब भी आप पैसे ट्रांसफर करने या पेमेंट करने के लिए BHIM का उपयोग कर सकते हैं। किसी भी फोन से *99# डायल कर सकते हैं और मोबाइल स्क्रीन पर BHIM की सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। इस सर्विस के जरिए यूजर VPA या अकाउंट नंबर और आईएफएससी इस्तेमाल करके पैसे भेजे जा सकते हैं।

यह सर्विस सभी जीएसएम सर्विस प्रोवाइडर और हैंडसेट पर काम करती है। *99# के जरिए पैसे भेज सकते हैं, मनी के लिए रिक्वेस्ट कर सकते हैं और बैलेंस चेक कर सकते हैं। ग्राहक अपने यूपीआई की जानकारी, भाषा बदलने, यूपीआई आईडी मैनेजमेंट और बेनिफिशियरी जोड़ने जैसे काम BHIM के जरिए कर सकता है। UPI पर किए गए लास्ट 5 ट्रांजैक्शन के बारे में जान सकते हैं। UPI पिन सेट सकते हैं या बदल सकते हैं।

यहां जानें बिना इंटरनेट या स्मार्टफोन BHIM कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं:


स्टेप 1: अपने फोन पर *99# डायल करें और कॉल का बटन दबाएं।
स्टेप 2: अपनी सुविधा के अनुसार भाषा का चयन करें और भेज दें
स्टेप 3: अपने बैंक का नाम और आईएफएससी के पहले चार अक्षर दर्ज करें
स्टेप 4: दिए गए विकल्पों में से अपने बैंक का चयन करें
स्टेप 5: अपने डेबिट कार्ड के आखिरी 6 अंक और एक्सपायरी डेट स्पेस देकर दर्ज करें
स्टेप 6: अपना नया 6 अंकों का यूपीआई पिन दर्ज करें
स्टेप 7: दोबारा 6 अंकों का यूपीआई पिन दर्ज करें
स्टेप 8: आपका यूपीआई पिन सेट हो चुका है और अकाउंट बैलेंस चेक करने के लिए यूपीआई पिन दर्ज करें।

ध्यान देने वाली बात यह है कि टेलीफोन सर्विस प्रोवाइडर ग्राहक से *99# सर्विस का उपयोग करने के लिए फीस लेते हैं। *99# सर्विस का उपयोग करने की फीस जानने के लिए अपने टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करें। हालांकि, TRAI (भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण) ने *99# सर्विस का उपयोग करने के लिए प्रति ट्रांजेक्शन अधिकतम 0.50 रुपये की लिमिट तय है। वर्तमान में *99# के जरिये अधिकतम 5000 रुपये तक की ट्रांजेक्शन कर सकते हैं।

Jun 5, 2019

Fixed deposits: बैंक FD खुलवाने का है प्लान, तो इन 8 बातों का रखें ध्यान

Fixed deposits: बैंक FD खुलवाने का है प्लान, तो इन 8 बातों का रखें ध्यान


अगर FD में निवेश करना चाहते हैं तो यह वक्त सही कहा जा सकता है. वजह है कि मॉनटेरी पॉलिसी रिव्यू मीटिंग शुरू हो चुकी है और कम ग्रोथ रेट व अन्य कारकों को देखते हुए अनुमान हैं कि RBI प्रमुख ब्याज दरों में कटौती कर सकता है.
Fixed deposits: बैंक FD खुलवाने का है प्लान, तो इन 8 बातों का रखें ध्यान

सेविंग्स के लिए ज्यादातर भारतीय फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) को तवज्जो देते हैं. इसे बचत का सरल और जोखिम रहित विकल्प माना जाता है. अगर आप FD में निवेश करना चाहते हैं तो यह वक्त सही कहा जा सकता है. इसकी वजह है कि RBI की मॉनटेरी पॉलिसी रिव्यू मीटिंग शुरू हो चुकी है और कम ग्रोथ रेट व अन्य कारकों को देखते हुए ऐसे अनुमान हैं कि RBI प्रमुख ब्याज दरों में कटौती कर सकता है.

FD भले ही निवेश का सरल माध्यम हो लेकिन इसमें पैसा डालते वक्त भी कुछ बातों पर गौर कर लेना जरूरी है….

Fixed deposits ब्याज दर

बैंक FD पर तय अवधि के लिए तय ब्याज दर रहती है. ब्याज को मासिक, तिमाही, छमाही, सालाना या फिर मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद प्रिंसिपल अमाउंट के साथ ही लिया जा सकता है.अक्सर लोग FD राउंड फिगर कहलाने वाली अवधि जैसे 6 माह, 1 साल, 2 साल आदि के हिसाब से कराते हैं. कुछ बैंकों में इस राउंड फिगर अवधि के लिए, इससे 1 या थोड़े ज्‍यादा दिन या कम दिनों के लिए FD पर ब्‍याज दर अलग-अलग होती है. इसलिए FD खुलवाने से पहले FD अवधि और उस पर ब्‍याज का पता जरूर कर लें. हो सकता है कि राउंड फिगर अवधि के बजाय थोड़े दिन कम या ज्‍यादा पर कुछ एक्‍स्‍ट्रा ब्‍याज मिल जाए.

पैसे की सेफ्टी

ध्यान रहे कि डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) स्कीम के तहत किसी भी बैंक के दिवालिया हो जाने पर डिपॉजिटर का केवल 1 लाख रुपये तक का अमाउंट सुरक्षित है, फिर चाहे उसका कितना भी पैसा बैंक में क्यों ने हो. इस लिमिट में प्रिंसिपल अमाउंट व ब्याज दोनों शामिल है. साथ ही एक ही बैंक की अलग-अलग ब्रांच में किए गए विभिन्न डिपॉजिट सभी को मिलाकर भी केवल 1 लाख रुपये की ही गांरटी ली जाती है. इसलिए अच्‍छा होगा अगर आप बड़ी रकम को एक FD में न रखकर अलग-अलग बैंकों में इन्वेस्ट करें. इसके फायदे ये भी हैं कि अगर इमरजेंसी में रकम की जरूरत है तो जरूरत के मुताबिक रकम की FD तोड़कर काम चला सकते हैं. एक अन्य फायदा यह भी है कि अगर एक जगह कम ब्‍याज है तो दूसरी जगह ज्‍यादा ब्‍याज ले सकते हैं.

जिस ब्‍याज पर खुलवाई है FD, अवधि पूरी होने तक मिलेगा वही

भले ही RBI ब्‍याज दरों में बदलाव करे लेकिन आपको FD की अवधि पूरी होने तक वही ब्‍याज मिलेगा, जो FD खुलवाते वक्‍त था. ब्‍याज दर में बदलाव नई खोले जाने वाली FD या फिर टेनर पूरा होने के बाद FD रिन्‍यूअल पर ही लागू होता है. इसलिए मौजूदा FD धारक को इससे किसी भी तरह का फायदा या 
नुकसान नहीं होता.



टैक्स

बैंक FD से आने वाला ब्याज टैक्स के तहत आता है. इसे अन्य स्त्रोत से आय में गिना जाता है. मौजूदा नियम के तहत अगर एक फाइनेंशियल ईयर में FD से मिलने वाला ब्याज 40000 रुपये से ज्यादा है तो बैंक डिपॉजिटर को ब्याज का भुगतान करने से पहले 10 फीसदी टैक्स एट सोर्स यानी TDS काट सकते हैं. अगर आपने किसी बैंक में 1 से ज्‍यादा FD खुलवा रखी हैं तो ब्‍याज की गणना सभी FD के ब्‍याज को मिलाकर होगी. हालांकि आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करके काटे गए टैक्‍स का क्‍लेम कर सकते हैं.
बैंक आपका TDS न काटें, इसके लिए आप फॉर्म 15G /15H भरकर जमा कर सकते हैं. यह सेल्‍फ डिक्‍लेरेशन फॉर्म होता है, जिसमें आपके टैक्‍सेबल लिमिट में न आने का डिक्‍लेरेशन होता है. इसके अलावा कुछ बैंक टैक्‍स सेविंग FD, स्‍पेशल FD की भी सुविधा देते हैं.

मैच्‍योरिटी से पहले तोड़ने पर देना होता है चार्ज

कई बैंक मैच्‍योरिटी पीरियड से पहले निकाल ली जाने वाली FD की भी सुविधा देते हैं. यानी आप इन्‍हें जरूरत के वक्‍त तोड़ सकते हैं लेकिन ऐसा करने पर बैंक आपसे प्री-मैच्‍योरिटी चार्ज वसूलते हैं. साथ ही मिलने वाला ब्याज भी घट जाता है.

Fixed deposits का नॉमिनेशन

अगर आप FD खुलवा रहे हैं तो सेविंग्‍स अकाउंट या अन्‍य स्‍कीमों की तरह इसमें भी किसी अन्‍य इन्‍सान को नॉमिनी बनाएं, ताकि अगर आपको कुछ हो भी जाता है तो आपका इन्‍वेस्‍ट किया हुआ पैसा बेकार नहीं जाएगा.
जरूरत के वक्त FD पर मिल जाता है 

लोन
अगर पैसों की जरूरत आन पड़ी है तो आप अपनी FD पर लोन भी ले सकते हैं. इसे ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी कहते हैं. इसमें आपको एक नि​श्चित अवधि के अंदर तय ब्याज दर के साथ अमाउंट चुकाना होता है. लेकिन इसे EMI में चुकाने की बाध्यता नहीं होती, आप अवधि के अंदर कभी भी एकमुश्त या टुकड़ों में पैसे चुका सकते हैं. साथ ही अगर अवधि से पहले पैसे चुका दिए तो प्रीपेमेंट चार्ज भी नहीं देना होता और ब्याज भी केवल उतने की दिन का देना होता है, जितने दिन अमाउंट आपके पास रहा. SBI आपको FD पर FD अमाउंट के 90 फीसदी तक का लोन उपलब्‍ध कराता है. यह 25000 रुपये से 5 करोड़ रुपये तक है.

अपनी सहूलियत से चुनें FD टेन्योर

कई लोग FD लॉन्ग टर्म जैसे 5 या 10 साल के लिए खुलवाते हैं तो कई शॉर्ट टर्म जैसे 1, 2 या फिर 3 साल वाली FD खुलवाते हैं. हर इंसान अपनी-अपनी सहूलियत के हिसाब से ऐसा करता है. आपको भी FD खुलवाने से पहले यह जरूर सोच लेना चाहिए कि आप इसमें किस तरह का इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं, शॉट टर्म या लॉन्ग टर्म. फिर उसी हिसाब से FD का टेनर चुनें.

May 19, 2019

Bhim app - भीम ऐप की जानकारी हिंदी में

भीम ऐप की जानकारी हिंदी में- जब नोटबंदी ने हमे एक ऐसा वक्त दिया जिस मे लोगों को अपनी आम आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए हमने एक समस्या को महसूस किया कि हमें कैश की भारी कमी थी उस समय समाधान की दिशा में कार्य करते हुए भीम एप संध्या भीम एप जन्म दिया देश को कैशलेस बनाने की दिशा में कार्य करते हुए देश के प्रधानमंत्री भीम ऐप को लॉन्च किया तो आज हम समझने की कोशिश करते है की क्या भीम ऐप इस से कैसे पैसे एक खाते से दूसरे खाते मे पैसे भेज सकते है।



क्या है भीम ऐप
भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM APP ) आपके मोबाइल फोन के माध्यम से तेज, विश्वसनीय, सुरक्षित,  कैशलेस भुगतान को सक्षम करने के लिये एक ऐप है।  BHIM को National Payment Corporation of India (NPCI) द्वारा डिजिटल इंडिया पहल के एक भाग के रूप में विकसित किया गया है, BHIM एकमात्र ऑनलाइन भुगतान ऐप है जो आपके पास होना चाहिए। BHIM APP से आपका स्मार्टफोन आपका बैंक बन जाता है।BHIM यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) पर काम करता है, जो एक क्रांतिकारी भुगतान मंच है। 

BHIM की विशेषताएं इस प्रकार हैं: -
  • एक ऐप में सभी बैंक खातों से जुड़ा हुआ है
  • अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करके दोस्तों और रिश्तेदारों को भुगतान करें। (बशर्ते जिस को भुगतान कर रहे वो भी BHIM / UPI से जुड़ा हो )
  • किसी भी UPI एप्लिकेशन का उपयोग कर किसी भी उपयोगकर्ता को भुगतान करें।
  • एक त्वरित और निर्बाध अनुभव के लिए "पे एंड यूपीआई / बीएचआईएम" का उपयोग करके ऑनलाइन चेकआउट करें।
  • किसी भी BHIM UPI उपयोगकर्ता से पैसे का अनुरोध कर सकते है ।
  • एक QR स्कैन से भुगतान कर सकते हैं।
  • अकाउंट बैलेंस चेक करें।

  • भविष्य में भुगतान निर्देश के रूप में एक बार बनाएं।
  • भुगतान अनुस्मारक (Payment Reminder ) सेट कर सकते है।
  • BHIM / UPI से आप बिल का भुगतान कर सकते है।
  • BHIM की मदद से, आप हर बैंक के अलग-अलग मोबाइल बैंकिंग ऐप का उपयोग किए बिना कई बैंकों से डिजिटल लेनदेन कर सकते हैं।
  • Bhim app इन भाषाओं में हिंदी, मलयालम, मराठी, पंजाबी, असमी, बंगाली, तमिल, तेलुगु, गुजराती, कन्नड़, ओड़िया अन्य शामिल हैं।
भीम एप रजिस्ट्रेशन कैसे करें

  1. Bhim app का रजिस्ट्रेशन करने के लिये आप सबसे पहले PLAY STORE, APP STORE, या APPLE STORE से BHIM App को फ्री मे Download करना होगा|
  2. भीम ऐप को रजिस्ट्रेशन के लिये सिम का चुनाव कर आगे बढ़े, आप अपने उस सिम का चुनाव करे जो आप के बैंक खाते से जुड़ा हो |
  3. उसके बाद आप अपने बैंक का चुनाव करे जिस मे आप को बैंक खाता है |
  4. BHIM APP से आप UPI नंबर जनरेट करे जो आप बिल के भुगतान करने फ़ंड ट्रांसफर करने के लिये उपयोगी सिध्द होगा|
BHIM ऐप ट्रांसफर लिमिट 2019
BHIM उपयोगकर्ता एक ही ऐप से कई बैंकों के माध्यम से लेन-देन कर सकते हैं, जिसमें कई बैंकिंग ऐप होने की कोई आवश्यकता नहीं है। हालांकि, वे एक समय में केवल एक सक्रिय बैंक खाते को ऐप में रख सकते हैं। वर्तमान में, ऐप में एकल लेनदेन के लिए 10,000 रुपये की लेनदेन की सीमा और 20,000 रुपये की दैनिक सीमा है। ऐप एक दिन में प्रति बैंक 20 लेनदेन की सीमा को भी लागू करता है।

BHIM ऐप: मोबाइल नंबर या UPI आईडी के माध्यम से पैसे कैसे ट्रांसफर करें
BHIM भी अपने उपयोगकर्ताओं को अपने मोबाइल नंबर या UPI आईडी दर्ज करके अपने संपर्कों को नकद हस्तांतरित करने की अनुमति देता है। उपयोगकर्ता बस ऐप में किसी अन्य व्यक्ति की एक UPI आईडी दर्ज कर सकते हैं और फिर राशि भेज सकते हैं जिसे वे तुरंत भेजना चाहते हैं। हालांकि, यदि वे अपने फोन नंबर का उपयोग करके किसी अन्य व्यक्ति को पैसा भेजना चाहते हैं, तो दूसरे व्यक्ति को स्थानांतरण के लिए सक्रिय BHIM खाता होना आवश्यक है।


यह भी पढे
  1. State Bank of India (SBI) online internet banking in Hindi एसबीआई ऑनलाइन नेट बैंकिंग
  2. Sukanya Samriddhi Yojana सुकन्या समृद्धि योजना 2018 के नियम और ब्याज दर
  3. Lic Jeevan labh plan 836 reviews in Hindi एलआईसी जीवन लाभ प्लान

Apr 21, 2019

क्या है SIP, कैसे करे SIP के जरिये निवेश जानिये SIP के बारे में सब कुछ

हम अपने जीवन निर्वाह के लिये पैसे उसका एक धुरी है इस के हम दिन रात मेहनत कर कमाने की लगातार कोशिश करते है तो हम अपने पैसे को भी पैसा कमाने का एक माध्यम बना सकते है तो आये हम बात करे क्या है SIP,  कैसे करे SIP के जरिये निवेशजानिये SIP के बारे में सब कुछ।

क्या है SIP,  कैसे करे SIP के जरिये निवेश जानिये SIP के बारे में सब कुछ

बाज़ार मे पैसे निवेश के हजारों तरीके है अपने पैसे निवेश के मगर हम यह समझ नहीं पाते की कहा निवेश किया जाये और कहा निवेश नहीं किया जाये तो SIP भी एक हमारे निवेश का माध्यम हो सकता है तो SIP क्या है यह हमारे निवेश संबन्धित जानकारी नहीं होने से हम SIP मे निवेश नही कर पाते है सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी सिप (SIP) की चर्चा आजकल काफी हो रही है। लेकिन अभी भी ज्यादातर लोगों को नहीं पता है कि निवेश का ये तरीका सिप (SIP) क्या है। हालांकि जिन लोगों को सिप (SIP) के बारे में जानकारी है, वह इसका खूब फायदा उठा रहे हैं।

 क्या है SIP सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान

एक ऐसा निवेश का प्लान जिसे हम सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी सिप (SIP) भी कहते है जिस हम एक आसान भाषा मे समझते है की देश मे जैसे जैसे मध्यम वर्ग बड़ा होने के साथ ही इस वर्ग ने अपने आय का बड़ा हिस्सा saving करने लगा तो लोग अपने सेविंग को पोस्ट ऑफिस स्कीम, BANK FD करने लगे तो जैसे इन होने वाली आय कम हुई तो वक्त साथ निवेश के नये रास्ते तलासे जाने लगे तो ऐसे मे शेयर बाज़ार मे निवेश किया जाने लगा |

शेयर बाज़ार मे अधिक जोखिम होने से MUTUAL FUND एक निवेश का माध्यम बना मगर इस मे साथ कुछ रुपये एक साथ निवेश जरूरी था मगर कही सलैरी लोगों के लिये जो हर माह MUTUAL FUND मे कुछ AMOUNT निवेश कर सके तो इस प्लान को ही हम सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी सिप (SIP) कहने लगे| इसे हम पोस्ट ऑफिस आरडी तरह देख सकते है|


सिप (SIP) क्यों शुरू करें?


हम ने कही बार देखा होगा की आप अपने पैसे को अधिकतम रिटर्न की उम्मीद करते है मगर वो भी कम रिस्क के साथ यह कही पुरी हो सकती है तो वो है  सिप (SIP) जो आपको बेहतरीन रिटर्न देने की ताकत रखता है| SIP मे निवेश मतलब अपने मे एक निवेश में अनुशासन का बहुत महत्व है. SIP आपके इसी अनुशासन को कायम रखता है. इसके अलावा सिप (SIP) नियमित रूप से Mutual Fund में निवेश जारी रखता है भले ही शेयर बाजार में तेजी हो या मंदी. 

सिप (SIP) कैसे शुरू करें?


तीन स्टेप में जानें क्या है निवेश की प्रक्रिया? 

जरूरी दस्तावेज तैयार रखें एसआईपी शुरू करने के लिए आपके पास कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट्स होने चाहिए. इनमें पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ और चेक बुक शामिल हैं. चेक बुक इसलिए कि इसमें आपका खाता संख्या बगैरह भी होता है. 

म्यूचुअल फंड्स में निवेश शुरू करने के लिए नो योर कस्टमर (केवाईसी) अनिवार्य है. आपको नाम, जन्मतिथि, मोबाइल नंबर, एड्रेस आदि जरूरी जानकारी देनी होगी. ये आपको सिर्फ एक बार देना है. ऑनलाइन भी केवाईसी यानी ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं. 

आप बिरला सन लाइफ म्यूचुअल फंड, क्वांटम म्यूचु्ल फंड के अलावा कैम्स (CAMS) और कार्वी की बेवसाइट पर जाकर भी ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं. आपको बेसिक जानकारी और पैन और एड्रेस प्रूफ की सॉफ्ट कॉपी अपलोड करनी होगी. इसके बाद एक वीडियो कॉल शिड्यूल होगी, उसके जरिये आपकी फिजिकल उपस्थिति को जांचा जाएगा. आधार नंबर के जरिये भी आप ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं. हालांकि इसमें एक फंड हाउस में सालान अधिकतम 50 हजार निवेश की सीमा है. 

म्यूचुअल फंड की वेबसाइट पर जाएं जब आपकी केवाईसी पूरी हो जाती है तो आप उस फंड हाउस की बेवसाइट पर जाएं, जिसकी स्कीम में आप निवेश करना चाहते हैं. रजिस्टर नाउ सर्च करें या न्यू इन्वेस्टर लिंक पर जायें. इसमें एक सिंगल फॉर्म मिलेगा जिसमें बेसिक जानकारी भरनी होगी. इसके बाद आप यूजर नेम और पासवर्ड सेट करने के बाद ऑनलाइन निवेश शुरू कर सकते हैं. इसमें आपसे बैंक खाता का डिटेल भी पूछा जायेगा. हर महीने कितना निवेश करना चाहते हैं वह भी बताना होगा. आप अपनी सुविधानुसार एसआईपी की किश्त जाने की तारीख चुन सकते हैं.


Mar 24, 2019

क्या है SBI YONO CASH IN HINDI - क्या बिना डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड) के निकालें सकते है SBI एटीएम से कैश जानिए

देश की सबसे बड़ी सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया  SBI YONO APP को लॉन्च किया था उसी में एसबीआई ने SBI YONO CASH के नाम से हाल ही में फीचर लांच कर दिया है यह ऐप हमें बैंकिंग, निवेश और लाइफ़स्टाइल से संबंधित कहीं सेवाओं को प्रदान करती है| जो आप को मिनटों ONLINE SBI ACCOUNT खोलने की सुविधा भी देता है|

क्या है SBI YONO CASH IN HINDI - क्या बिना डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड) के निकालें सकते है SBI एटीएम से कैश जानिए
कई बार हमारे साथ में यह समस्या का सामना करना पड़ता है की पैसे की आवश्यकता होती है मगर हमारे पास एटीएम कार्ड नहीं होता तो ऐसे में हम अपने पैसे की आवश्यकताओं को कैसे पूरा करें इसी दिशा में कार्य करते हुए एसबीआई ने एसबीआई योनो कैश फीचर लॉन्च किया है

क्या है YONO SBI APP

SBI के वन-स्टॉप सॉल्यूशन प्लेटफॉर्म SBI YONO ’ने आधार के माध्यम से डिजिटल खाता खोलने को एक एप्प कर लांच दिया है। नवंबर 2017 में लॉन्च किया गया डिजिटल प्लेटफॉर्म digital YONO ’बैंक की सभी वित्तीय सेवाओं और जीवन शैली के उत्पादों और सेवाओं को प्रदान करता है, जिसमें बैंक शाखा में जाने के बिना खुलने की सुविधा भी शामिल है। दूसरों के अलावा, ग्राहक फंड भी ट्रांसफर कर सकते हैं, पूर्व-अनुमोदित व्यक्तिगत ऋण SBI HOME LOAN के आवेदन का लाभ उठा सकते हैं 

एसबीआई योनो खाता फायदे अब आपको बताते हैं कि SBI YONO एप के जरिए खाता खुलवाने से आपको क्या क्या लाभ मिल सकते हैं।

  • खाता खुल जाने के बाद आपको प्लैटिनम डेबिट कार्ड मिलेगा।
  • खाता खुल जाने के बाद आपको बैंक की सारी सुविधाएं मिलेंगी। 
  • SBI YONO एप के जरिए खाता खुलवाने पर आपको 5 लाख रुपए तक मुफ्त दुर्घटना बीमा मिलेगा।
  • प्लेटिनम डेबिट कार्ड के जरिए आपको एटीएम से 1 लाख रुपए तक निकालने की सुविधा मिलती है
  • खाता खुलवाने पर आपको SBI लाइफ, SBI म्यूचुअल फंड, SBI कैप्स और SBI कार्ड्स जैसी सुविधाएं भी मिलेंगी। 
  • SBI बैंक ने 60 ईकॉमर्स कंपनियों के साथ पार्टनरशिप की है, जिसमें आपको खरीददारी करने पर आकर्षक ऑफर और डिस्काउंट की सुविधा मिलेगी।
  • कुछ click में fund Transfer संभव 
  • बिना पेपरवर्क के Free Aproved
  • Personal Loan FD के बदले में Overdraft की सुविधा।

क्या है SBI YONO CASH

YONO Cash सुविधा में YONO APP के जरिए एटीएम कार्डलेस कैश निकासी की सुविधा दी गई है। जिन एटीएम में ये फीचर काम करेगा उन्हें योनो कैश प्वाइंट्स कहा जाता है। योनो कैश को YONO SBI के साथ लॉन्च किया गया है

एसबीआई योनो कैश फीचर के जरिए सुरक्षित एवं सुविधाजनक बैंकिंग का सपना साकार कर रहा है यदि हम घर एटीएम भुल जाते है तो भी या किसी आपात स्थिति मे पैसे की आवश्यकता होने पर आपके पैसे बहुत ही आसानी से कुछ क्लिक्स के माध्यम से निकाले जा सकते हैं

एसबीआई योनो कैश यह है पूरी प्रक्रिया

यह सुविधा केवल स्टेट बैंक ग्राहकों के लिए है। यदि आप स्टेट बैंक के ग्राहक हैं आपके मोबाइल में योनो ऐप भी हो। यदि ऐप का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तो इस सुविधा के लिए YONO ऐप डाउनलोड कर लें।

स्टेप 1: जो आप को मोबाइल मे YONO ऐप के माध्यम से करना है

  1. मोबाइल पर ऐप ओपन करने के बाद आपको 'योनो कैश' सिलेक्ट करना है। इसके बाद निकासी की राशि एंटर करें।
  2. नेक्स्ट बटन दबाने के बाद आपको 6 डिजिट का ट्रांजैक्शन पिन चूज करना है। इस पिन को याद रखें क्योंकि यह आपको एटीएम से रकम निकासी के दौरान एंटर करना होगा।
  3. अब आपको मोबाइल पर एक एसएमएस आएगा, जिसमें एक ट्रांजैक्शन नंबर होगा।


स्टेप 2: जो आप को एसबीआई एटीएम पर करना है

  1. अब आपको स्टेट बैंक के एटीएम पर जाकर 'योना कैश' विकल्प चुनना है। 
  2. इसके बाद एमएमएस के जरिए मिले ट्रांजैक्शन नंबर को एंटर करें। 
  3. फिर निकासी राशि टाइप करने के बाद 'YES' को चुनें। 
  4. अब आपको 6 डिजिट का वह पिन एंटर करना है जिसे आपने 'योनो ऐप' में सिलेक्ट किया था। पिन डालने के बाद आपको कैश मिल जाएगा। 

एसबीआई योनो कैश निकालने के ध्यान रखने योग्य

  • एक दिन में इससे आप 20000 तक का कैश विड्रोल कर सकते हैं।
  • एक ट्रांजैक्शन में अधिकतम 10000 का पैसे की निकासी की जा सकती है।
  • 1 दिन में दो ट्रांजैक्शन एसबीआई योनो कैश द्वारा किया जा सकता है।
  • अभी यह सुविधा डेबिट कार्ड ग्राहकों तक ही सीमित है।
  • योनो पिन 30 मिनट के लिए वैध है। पिन सिलेक्ट करने के आधे घंटे के भीतर आपको एटीएम से पैसे की निकासी करनीजरूरी है|
क्या है SBI YONO CASH IN HINDI - क्या बिना डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड) के निकालें सकते है SBI एटीएम से कैश जानिए शायद आप को इस बात का जवाब मिल गया होगा| YONO SBI CASH स्टेट बैंक द्वारा शुरू की गयी अच्छी सेवा है| आप अधिक जानकारी के लिये आप SBI YONO की आधिकारिक साइट विजिट कर सकते है|



यह भी पढे
  1. State Bank of India (SBI) online internet banking in Hindi एसबीआई ऑनलाइन नेट बैंकिंग
  2. Sukanya Samriddhi Yojana सुकन्या समृद्धि योजना 2018 के नियम और ब्याज दर
  3. Lic Jeevan labh plan 836 review in hindi एलआईसी जीवन लाभ प्लान

Mar 17, 2019

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम इन हिंदी Post Office Senior Citizen Saving Scheme Account (SCSS) in Hindi

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम - सीनियर सिटीजन का नाम सुनते ही हमारे मन में सम्मान का भाव उबर भी सकता है और उबर भी नहीं सकता लेकिन सरकार या पोस्ट ऑफिस की नजरों में इनके लिए सम्मान का भाव इसलिए पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम में सबसे अधिक ब्याज किया जाता है चर्चा करते हैं ।
पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम इन हिंदी Post Office Senior Citizen Saving Scheme Account (SCSS) in Hindi

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम के बारे में About the Post Office Senior Citizen Savings Scheme

क्या है पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम Senior Citizen Saving Scheme (SCSS)

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन स्कीम छोटी बचत के लिए एक अच्छी योजना है जो केवल और केवल 60 वर्ष से ऊपर के भारतीय नागरिकों के लिए ही उपलब्ध हैं जिसमें डाकघर सबसे अधिक ब्याज देता है डाक विभाग की यह एक बेहतरीन योजनाओं में से एक है।

यह योजना जोखिम रहित एवं एक सुरक्षित निवेश और नियमित आय देने वाली योजना है वरिष्ठ नागरिकों के काफी लोगप्रिय रही हैं जिसमें आप नियमित रूप से इसके ब्याज को ले सकते हैं।

सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम की प्रमुख विशेषताएं Features of Senior Citizen Saving Scheme (SCSS)

  • यह खाता खोलने के लिए खाताधारक की उम्र 60 वर्ष या 60 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • यदि किसी व्यक्ति की उम्र 55 से अधिक है लेकिन 60 वर्ष से कम है एवं रक्षा सेवा सेवाओं के सेवानिवृत कर्मी (डिफेंस सिविलयन छोड़करकर्मचारियों) उपरोक्त आयु सीमा के विचार के बिना वे अपने रिटायरमेंट के एक माह के अंदर खाता खोल सकते हैं।
  • यह खाता संयुक्त एवं एकल खाता दोनों से तरह का खाता खोला जा सकता है।
  • संयुक्त खाता केवल पति या पत्नी के नाम से ही खोला जा सकता है भले ही पति या पत्नी की आयु कितनी भी हो सकती है।
  • एक जमाकर्ता एक से अधिक खाता खोल सकता है परंतु सभी खातों की जमा राशि निर्धारित सीमा के अनुसार होनी चाहिए।
  •  यदि इस खाते में निर्धारित सीमा से अधिक जमा कराने पर आपको सीमा से ऊपर की जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं देय नहीं होता है।
  •  इस खाते में ब्याज का भुगतान के तिमाही आधार पर 1 जनवरी 1 अप्रैल 1 जुलाई 1 अक्टूबर को किया जाता है।
  • संयुक्त खाते में निवेश की गई राशि केवल प्रथम जमा करता कोई प्रदान की जाएगी।
  • यह खाता एन आर आई मुख्तार नामाधारक खाता खोलने के पात्र नहीं है।
  • फॉर्म 15G अथवा 15H जो भी लागू होता हों मे घोषणा पत्र नहीं दिए जाने की स्थिति में ब्याज का भुगतान करते समय आयकर की कटौती की जा सकती है।
  •  निर्धारित शुल्क पर सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम खाता एक डाकघर से दूसरे डाकघर में स्थानांतरित किया जा सकता है।
  • ब्याज का भुगतान ऑटो क्रेडिट के माध्यम से डाकघर बचत खाते में किया जा सकता है।

अकाउंट की अवधि – 5 साल Tenure of Account

 सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम खाता - 5 वर्ष का परिपक्वता अवधि होती है मगर इसे आप अपनी सुविधा के मुताबिक, इसखाते के 5 वर्ष परिपक्वता के बाद में इस खाते को 3 वर्ष के ब्लॉक अवधि आगे लिए बढ़ाया जा सकता है विस्तार (extension) की अवधि के दौरान आप अगर पैसा निकालते (withdraw) हैं तो आपको किसी तरह की penalty नहीं भरनी पड़ेगी।

ब्याज दर Rate of Interest Of SCSS Deposit Account

पोस्ट ऑफिस का ब्याज समय-समय पर मतलब हर तिमाही बदलता रहता है उसके साथ सीनियर सिटीजन खाते का भी ब्याज बदलता रहता है तो आपसे यह निवेदन है खाता खुलवाने से पहले डाकघर इस संबंध में अधिक जानकारी अवश्य प्राप्त करें।

यह खाता एक बार यह खुलवाने पर उसका ब्याज मे कोई बदलवा नहीं होती है वहीं ब्याज दर अगले 5 वर्ष के लिए रहती है और आपको निरंतर हर तिमाही वहीं ब्याज मिलता है।

समय से पुर्व बंद हो सकता है पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन स्कीम खाता को समय से पूर्व बंद किया जा सकता है यदि आप इस खाते को 1 वर्ष से कम समय में बंद करते हैं तो आपके मूल जमा रकम से 1.5% प्रतिशत की कटौती की जाती है और 1 वर्ष बाद समय से पूर्व खाते को बंद करने पर 1% की कटौती की जाती है।

आयकर कटौती की जाती है पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम मे  

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज को आपके आय में माना जाता है और इस पर सरकार द्वारा निर्धारित ब्याज आय सीमा पर ब्याज पर स्रोत पर TDS काटा जाता है। इस कटौती से बचने के लिए 15G या 15H फॉर्म आप समय से पूर्व अपने डाकघर में जमा कर होने वाली कटौती से बचा जा सकता है।

आयकर छूट

इस खाते में आप द्वारा निवेश राशि पर इनकम टैक्स अधिनियम 1961 मे आयकर की धारा 80C के अंतर्गत  दिनांक 14 2007 से आयकर छूट मे प्राप्त कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम निवेश की सीमा

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम खाते में आप न्यूनतम 1000 और अधिकतम 1500000 तक जमा कर सकते हैं। आप न्यूनतम 1000 से 15 लाख तक कितने खाते हो सकते हैं जिसमें खातों की संख्या को लेकर कोई लिमिटेशन नहीं है।

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम के फायदे Benefits of Post Office Senior Citizen Savings Scheme

  • इसमें 150000 तक निवेश कर आयकर में छूट प्राप्त कर सकते हैं।
  • डाकघर सबसे अधिक ब्याज देने वाला खाता है जिसमें आपको अन्य खातों के मुकाबले सबसे अधिक ब्याज मिलता है।
  • यद्यपि यह खाता डाकघर में खुलता है इसलिए आप द्वारा निवेश की गयी रकम सुरक्षित रहती हैं।
  •  इससे आप समय-समय पर एक निश्चित आय प्राप्त कर सकते हैं जिससे आप अपने कुछ खर्चो को आसानी से वहन कर सकते हैं।
सब बातों को देखते हुए पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम खाता काफी सुरक्षित और अधिक रिटर्न देने वाला है और सबसे खास बात किए खाता वृद्धावस्था में सीनियर सिटीजंस के लिए काफी वरदान सिद्ध हो सकता है क्योंकि उस समय आप द्वारा निवेश की गई राशि पर समय-समय पर एक निश्चित प्राप्त होती रहती है।  अधिक जानकारी के लिए आप डाकघर के ऑफिशल वेबसाइट को विजिट कर सकते हैं

यह भी पढ़े 
Payment Bank पेमेंट बैंक जाने हिंदी में 

Feb 24, 2019

Term Insurance in Hindi - अगर टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान

Term Insurance in Hindi - इंश्योरेंस के बारे मे जब दिमाग की बात आती है तो हमें एक सुरक्षा का भाव महसूस होता है जीवन इंश्योरेंस आज की जरूरतों के विचार से आवश्यक है| कहीं बार में सोचता हूं कि हम जीवन बीमा क्यों ले? क्यों हम अपने पैसे को इन जीवन बीमा उत्पादों में खर्च करे? लेकिन जॉब परिवार का ख्याल आता है तब यह एहसास होता है के जीवन बीमा कितना आवश्यक है तो आज हम Term Insurance in Hindi - अगर टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान के बारे में चर्चा करेंगे।

Term Insurance in Hindi - अगर टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान


कही बार है सबसे सस्ता टर्म प्लान लेना चाहते है या खोजते है लेकिन कही बार बेस्ट टर्म इन्शुरन्स प्लान लेना चाहते है मगर आप टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो क्या इन बातों का जाना की कौनसा टर्म इंश्योरेंस अच्छा है या सस्ता टर्म प्लान है इन बातों को जानने से पहले जानते की क्या है Term Insurance -टर्म इंश्योरेंस प्लान

क्या है Term Insurance - टर्म इंश्योरेंस प्लान

इंश्योरेंस का मतलब सरल भाषा मे कहे तो हमारे जीवन के परिवार के आर्थिक जिम्मेदारियो को हमारे बाद पुरा कर सके तो इंश्योरेंस मुख्य रूप से एंडोवमेंट इंश्योरेंस और टर्म इंश्योरेंस जीवन बीमा लिया जा सकता है एंडोवमेंट इंश्योरेंस में आपके द्वारा भरे गया प्रीमियम को एक निश्चित अवधि के बाद बोनस सहित वापस मिलता है या मुत्यु हो जाती है तो आपके नॉमिनी को टर्म इंश्योरेंस की रकम दे दी जाती है।

मगर टर्म इंश्योरेंस प्लान में इसके विपरीत होता है आपकी मुत्यु होने पर आपके इंश्योरेंस पॉलिसी के आपके नॉमिनी बीमा की रकम दी जाती है इस की अवधि पूरी होने पर आपको किसी तरह का कोई पैसा नहीं दिया जाता है।

टर्म इंश्योरेंस प्लान ही क्यो खरीदे

टर्म इंश्योरेंस प्लान ही विशुद्ध रूप से इंश्योरेंस का एक स्वरुप है आपको इसलिए खरीदना चाहिए क्योंकि यह एंडोवमेंट इंश्योरेंस प्लान के अनुपात मे कापी कम प्रीमियम पर मिल जाता है और आप अपने पैसे बचा कर उसको उच्च प्रतिफल में निवेश कर अधिक लाभ कमाया जा सकता है।

टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो क्या इन बातों का जाना

टर्म इंश्योरेंस कवर - कहीं बार यह देखा गया है इंसान को कितना बीमा कवर लेना चाहिए इस बात को कहीं बात वह समझ नहीं पाता और टर्म इंश्योरेंस में वह कुछ भी अपनी मर्जी से बीमा कवर ले लेता है लेकिन कुछ बीमा कुछ विशेषज्ञों के अनुसार आय का 15 से 20% बीमा कवर लेना चाहिये।

टर्म इंश्योरेंस प्रीमियम - कोई भी टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले उस बीमा का प्रीमियम क्या  है इस बात को जान लेना आवश्यक होता है क्योकि किसी भी टर्म इंश्योरेंस महत्वपूर्ण भाग उसका प्रीमियम होता है लेकिन हम टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले उन चीजों पर गौर नहीं करते है।

किसी भी टर्म इंश्योरेंस का प्रीमियम उसके आयु, बीमा धन पर निर्भर करता है और कई कंपनियों में प्रीमियम भी अलग अलग होता है तब आपको ऑनलाइन या ऑफलाइन प्रीमियम का तुलनात्मक अध्ययन जरूर करना चाहिए 

टर्म इंश्योरेंस के भुगतान के विकल्प - टर्म इंश्योरेंस में मृत्यु दावा के भुगतान की राशि कि कहीं अलग अलग विकल्प होते हैं जिन पर हम बीमा लेते वक्त गौर नहीं करते कई इंश्योरेंस कंपनियां मृत्यु दावा कि रकम एक साथ ना दे कर वार्षिक और मासिक रूप से भी देते हैं और हमारे परिजनों को सही जानकारी के अभाव में एक साथ मिली हुई मृत्यु दावा को संभाल नहीं पाते हैं और उस पैसे का सही इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं।

कहीं टर्म इंश्योरेंस कंपनियां मृत्यु दावा का भुगतान कुछ भाग एकमुश्त दे देते हैं और कुछ भाग मासिक किस्त के रूप में दिया जाता है और कहीं कंपनियां मासिक किस्त में भी 10 से 20% बढ़ोतरी करती है इससे परिवार को महंगाई से लड़ने के लिए सहायता मिलती है।

जीवन बीमा के लिए टर्म इंश्योरेंस ही क्यों 

  • हम भारतीय इस बार को अक्सर भूल जाते हैं जीवन बीमा एक निवेश है मगर ऐसा वास्तव मे नहीं है जीवन बीमा परिवार की सुरक्षा के लिए कियागया एक वादा है लेकिन हम जीवन बीमा को निवेश मान लेते हैं और सबसे पहले हम टर्म इंश्योरेंस ना लेकर एंडोवमेंट इंश्योरेंस खरीदते है जिससे मैच्योरिटी पर हमें भुगतान मिलता है जिसका रिटर्न 4 % से 5% होता है और हम टर्म इंश्योरेंस के मुकाबले एंडोवमेंट इंश्योरेंस मे अधिक प्रीमियम का भुगतान करते हैं।
  • कम प्रीमियम पर टर्म इंश्योरेंस आसानी से मिल जाते हैं जबकि एंडोवमेंट इंश्योरेंस प्लान अधिक प्रीमियम पर बाजार में उपलब्ध है जिससे हमारे काफी पैसा बच जाता है  इस पैसे को कहीं और निवेश कर हम अधिक रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।
  •  एंडोवमेंट इंश्योरेंस प्लान अपने दावा या मैच्योरिटी एकमुश्त भुगतान कर देते हैं जबकि टर्म इंश्योरेंस में ऐसा नहीं होता टर्म इंश्योरेंस भुगतान के अलग-अलग विकल्प उपलब्ध है हमारे प्रिय जनों को कम जानकारी होने के कारण एकमुश्त मिली राशि का सही उपयोग नहीं कर पाते हैं।
  •  अधिकतम टर्म इंश्योरेंस ऑनलाइन ही कर सकते हैं जैसे ऑनलाइन प्रीमियम भरना हो जाता है और श्रम और समय दोनों की बचत होती है।

क्या टर्म इंश्योरेंस का प्रीमियम भुगतान का आयकर मे छूट मिलती है 

टर्म इंश्योरेंस एक वित्त वर्ष  मे भरे गये प्रीमियम कि आयकर धारा 80सी तहत छूट मिलती है।

Term Insurance in Hindi - अगर टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीद रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान के साथ आप जो  टर्म इंश्योरेंस ले रहे है उसकी आधिकारिक वैबसाइट एक बार जरूर देखे

यह भी पढ़े 
Payment Bank पेमेंट बैंक जाने हिंदी में